मज़बूरी होती है मनुष्य जीवन की साहिब , वरना राम वन में , कृष्ण जेल में और हमपढ़ने थोड़े जाते|