मजबूरी होती है मनुष्य जीवन की साहिब, वर्ना
राम वन में,
कृष्ण जेल में,
और हम पड़ने थोड़ी जातें | 🙂